BAJIRAO MASTANI: BHANSALI’S मोहब्बत or ऐय्याशी?

Yesterday, just like any other day, I had nothing to do. I planned to watch Bajirao Mastani in a hope that it could prove to be therapeutic and would help me in coping with the traumatic experience of Dilwale. On the way, I decided to have a tea before starting the mission. I stopped at the chai shop. The quintessential Sonu Bhai, as usual, was working on a Rajdoot. Irony has made him the best expert mechanic of the obsolete models like Rajdoot and Yezdi (nobody trusts him with the newer models). He started without warning…..

Sonu: भइया गये थे का?

Me: कहाँ?

Sonu: अरे बाजीराव देखने.

Me: नहीं भाई दिलवाले देखने के बाद हिम्मत नहीं हो रहा. पैसा बर्बाद होता है बस.

Sonu: हाँ सहिये कहे. लेकिन जाइएगा ना त एगो टॉर्च लेते जाइएगा. पूरा फिलिम अंधेरा में है. हम ता मोबाइल का लाइट जलाए थे. कुछो नहीं दिखा. बगल वाला भी ससुर हम ही से पूछ रहा था की का दिखाया.

Me: तुम देख आए? कैसा था?

Sonu: थोड़ा थोड़ा दिख रहा था. शुरू में लड़ाई बहुत मस्त किया है. बाकी भंसालिया एतना खर्चा किया है दुगो बल्ब लगा देता ना तो मस्त मज़ा आ जाता.

Me: अरे उसका यही स्टाइल है. सब कुछ नहीं दिखता है. अंधेरा में का हो रहा है अपने समझना पड़ता है.

Sonu: सब कहा की इतिहास दिखाया है, इतिहास दिखाया है, घंटा इतिहास दिखाया है. हम हू पढ़े हैं टेन क्लास तक. हमको तो नहीं मिला कहीं बाजीराव। आउर मस्तानी कौन इतिहास में पढ़ाया जाता है भईया हा हा हा हा हा. मस्तानी पढ़ के सब लौंडा मस्ताना हो जाता। हा हा हा हा।

Me: तुम घंटा पढ़े हो. पढ़ते त यही करते?

Sonu didn’t like this and fired…….

Sonu: आप बहुत पढ़े हैं ना इसीलिए चाय का पैसा भी हम ही से दिलवाते हैं. है ना.

By this time you must have understood that I belong to the noble community of the unemployed, that’s why have nothing to do on everyday of the week.
He didn’t take it further on seeing my pathetic face and continued with the original topic.

Sonu: ठीक किया है इतिहास में नहीं पढ़ाया. का पढ़ाता? की एगो बाजीराव थे जो मस्तानी के प्यार में सब राज पाट बर्बाद कर दिये आउर बुखारे से मर गए। बच्चा सब पढ़ के का कहता? मास्टरो शरमा जाता पढ़ाने में। एक दम खराब स्टोरी लिखा है दम नहीं है।

Me: अबे तुमको का समझ आएगा? तुमको खाली मार धार समझ आता है। इमोश्नल स्टोरी नहीं होता का?

Sonu: लेकिन जानते हैं पढ़ाना चाहिए था बाजीराव का कहानी बचवन सबको। लड्कीबाजी छोड़ के सब काम पर ध्यान देता। जान जाता की घंटा कुछ नहीं मिलना। जो है ऊ भी बरबाद हो जाएगा।

Me: हाँ बहुत होशियार हो तुम ही। तुमको समझ आ गया न की सब बरबाद हो जाता है। अब मत करना लड्कीबाजी।

Sonu: लड़कीबाजी मत कहिए। सोनू ने मोहब्बत किया है ऐय्याशी नहीं की।

Me: हाँ हो गया तुम्हारा मोहब्बत। अब ज्ञान देते रहोगे की बताओगे का था सिनेमा में?

Sonu: कहे त अंधेरा था। लोग त चिल्ला रहा था की लाइट जलाओ रे। हॉल वा वाला गरियाया की बाहर निकाल देंगे तब चुप हुआ भाई लोग। बाजीराव एगो राजा रहता है एक नंबर लड़ाका। उसको मस्तानीया बुला के ले जाती है अपने बाप के तरफ से लड़ने के लिए। वहाँ ऊ उसको कटार गिफ्ट करके आता है। सुन रहे हैं न भैया। सोचिए केतना बड़का लड़ाका रहता है की गर्लफ्रेंड को गिफ्ट देने के लिए भी उसको कटारे मिलता है। जानते हैं की नहीं मस्तनिया अइसी पगलाई रहती है की कटारे से बियाह कर लेती है। आज के डेट में भी अइसा होता तो केतना मस्त होता। हम भी एगो मोटरसाइकल का हैंडल निकाल के अपनीवाली को दे आते। हो जाता बियाह। सब टेनसने खतम हो जाता।

Me: बियाह कर के फंस नहीं जाता रे? दूसरी मिलती तो का करता?

Sonu: अरे बजार में एकके मोटरसाइकल है का? एगो आऊर हैंडल निकाल लेते। तीन गो पटा के रखते आ कहते की मोहब्बत की है ऐय्याशी नहीं। आजकल सब लौंडा का फेवरेट डाइलॉग हो गया है। कल शाम को ई छोटुवा, अरे पानवाला, अपनी आइटम की मईया को बोलता है की तुम्हारी लड़की से मोहब्बत किए हैं ऐय्याशी नहीं।
लेकिन जानते हैं एक्टिंग सब बढ़िया किया है। रणवीर सिंह पहिले आ गया रहता ना त भंसालिया इसी को देवदास बनाता पक्का। शाहरुखवा से बढ़िया एक्टिंग कर दिया है देवदास का भाई। दारू पी के एक्टिंग किया है। बाह भाई हिला दिया है। ऊ बंगाली देवदास था ई मराठी देवदास है।

Me: फिर तुम बकवास चालू कर दिये। और कुछ नहीं दिखा तुमको पूरा सिनेमा में। देवदास दिखा खाली।

Sonu: कितने बार त कहे अंधेरा था। गज़ब बात करते हैं आप भी। एगो त अंधेरा में माथा दुखा गया ध्यान से देखते देखते। जाइए अपने देख आइये। टोंर्चवा जरूर ले जाइएगा। बाद में मत कहिएगा हम बताए नहीं।

For once I took him seriously and went back home to find a torch. In the search for the torch I realized that condition of electricity has become excellent in my city because torch was not required anymore in the houses. Please lend it to me if you find one because I really want to watch Bajirao Mastani.

Comments